Posts

तिरोकुट्टपेतवत्थु - अन्नप्राप्तिहेतु प्रेतों का अपने पूर्वगृहों में आना

Image
"प्रेतगण (देहच्युति के बाद भी) अपने घरों की दीवारों पर, घरों के मिलनस्थलों पर या चौराहों पर अथवा ग्राम-द्वारों के स्तम्भों (इन्द्रकीलों) पर आ कर बैठते हैं। "यद्यपि उन प्रेत प्राणियों के, पूर्वजन्म में कृत कर्मों के कारण, कुछ सम्बन्धी, किसी विशेष उत्सव के अवसर पर भी, जब उन के घरों में बहुत अधिक विशेष भोजन बनाया जाता है, उन प्रेतों का स्मरण नहीं करते। "तथापि कुछ दयालु सम्बन्धिजन, ऐसे विशेष अवसरों पर, उन प्रेतों पर अनुकम्पा करते हुए समय पर, शुद्ध एवं उत्तम भोजन बना कर उन को यह संकल्प करते प्रदान करते हैं- 'यह हमारे ज्ञाति- (सम्बन्धि-) जनों के लिये हो, इस का उपयोग कर हमारे ज्ञातिजन सुखी रहें।' "वे (जीवित) सम्बन्धिजन उपर्युक्त घरों की दीवारों पर, घरों के मिलनस्थलों पर या चौराहों पर अथवा ग्राम-द्वारों के स्तम्भों (इन्द्रकीलों) पर, यह विचार कर कि यहाँ हमारे मृतसम्बन्धी प्रेतगण आये होंगे- जा कर उन को आदरपूर्वक वह उत्तम भोजन अर्पित करते हैं तथा वे प्रेतजन उस की इस प्रकार कृतज्ञता प्रकट करते हैं- 'हमारे ये सम्बन्धी जन चिर काल तक जीवित रहें, जिन के कारण हम को यह उत

शुद्ध धर्म की पावन भूमि - "धम्मगिरी" (इगतपूरी)

Image
  हमने धम्मगिरी को नहीं, धम्मगिरी ने हमे चुना है - गुरुजी धम्मगिरी की आधारशिला कैसे रखी गई “5 दिसंबर, 1973 को एक शादी में शामिल होने के लिए पुणे के समीप वार्शी जा रहा था। ट्रेन में बैठे 'नवभारत टाईम्स' में छपे एक लेख पर नजर टिक गयी। इसमें विपश्यना एवं पू. गुरुजी के बारे में विशेष जानकारी छपी थी। इससे पहले भी इगतपुरी के एक-दो साथी विपश्यी साधकों से इसके बारे में कुछ सुना था। “मुझे एक पुराना रोग था। नाक की हड्डी बढ़ने से सांस लेने में कठिनाई एवं सिर-दर्द की शिकायत रहती थी। दो वर्ष पूर्व ऑपरेशन भी कराया था परंतु पिछले आठ-दस महीने से तकलीफें पुनः बढ़ गयी थीं। इगतपुरी के मेरे एक साधक मित्र ने बार-बार शिविर में जाने का आग्रह किया था परंतु मैं व्यापारी और अकेला आदमी, काम-धंधा बंद करके दस दिन के लिए शिविर में जाऊं, यह बात असंभव जैसी लगती थी। परंतु होना कुछ और ही था। बढ़ते रोग को देखकर डॉक्टरों ने हड्डी का गहरा आपरेशन करने की सलाह दी जिसके लिए पंद्रह दिन अस्पताल में भर्ती होना पड़ेगा। मैं सोचने लगा, साधना के लिए दस दिन निकालना असंभव लग रहा था और अब पंद्रह दिन दुकान बंद करनी पड़ेगी, जबकि

Shri Prakash Goenka has passed away in the morning today..

Image
  Shri Prakash Goenka ( SPG- Guruji’s Son) has passed away in the morning today.. He has not been keeping well for quite some time and over the last 6 months in particular - was hospitalized again 3 days ago! May he attain Nibbana! May the family bear this tragic loss with equanimity! A great son of Dhamma  Shri Shriprakash Goenkaji has moved on to his next journey of life.  He served his entire life to Guruji and to Dhamma in spreading Vipassana all over the World and especially the Building of the Global Vipassana Pagoda.  words just can’t describe the yeoman service he has given to Dhamma ,  Let’s us all give our deepest metta to him that he in his onward journey finds a path of peace happiness harmony and that he realizes the four noble truths in his onward journey of life. Photo Gallery of Shri Prakash Goenkaji

धम्मगिरी, धम्मतपोवन केंद्रपर १०, २०, ३० दिवशीय शिवीरोका ऑनलाईन फॉर्म भरने के लिए संपर्क करे !

  १०, २०, ३० दिवशीय विपश्यना शिवीर करने के लिए इच्छुक साधक साधिकाये कृपया हमे संपर्क करे और धम्म सेवा करणे का हमे अवसर दे ! Whatsapp Mob No. 9923060664

महाराष्ट्र मे होनेवाले एक दिवशीय विपश्यना शिवीरोकी जानकारी 

Image
  List of one day vipassana courses in Maharashtra Alibaug:   One-day: every second Sunday,  Group Sitting: Daily, 6 to 7 p.m., Sunday, 8 to 9 a.m.,  Place:  B-12/10, RCF Colony, Alibaug, Dist- Raigad  Contact:  Mob. 94211-71198, 94201-99637. * * * * * Mahad:  (Raigad)  One-day on every fourth Sunday,  at Dr. Babasaheb Ambedkar Smarak, near Chavdar Tale.  Contact:  Vishwanatha Dhotre, Tel: (02145) 690296, 98193-54874. * * * * * Akola:   One-day: every first Sunday,  at Vidya Mandir Kanya School, Opposite IMA hall,  Contact:  Khaire, Mobile: 94224-09435. * * * * * Malkapur:  (Akola)  One-day: on every fourth every third Sunday,  and  Children’s course:  every fourth Sunday  at Rajratna Colony Malakapur Road, Akola 444 001.  Contact:  Mr. Dadarao Tayade, Mob. 94217-94874, 94218-37014. * * * * * Wardha:  One-day: every third Sunday,  Place:  Bodhisatva Buddha Vihar Vikramshila nagar Wardha,  Contact:  Tel: (07152) 247261, Mob. 98906-17235. * * * * * Shegoan:   One-day: every second Sunday

धम्मअनाकुल अकोला: १० मार्च का दस दिवशीय महिला विपश्यना शिविर रद्द !

Image
कोविड19 के बढ़ते प्रभाव के कारण, शासनद्वारा संचारबंदी लागू की गई है, इस कारण धम्मअनाकुल विपश्यना साधना केन्द्र पर दि.10.03 से महिलाओं के लिए शुरू होने वाला 10 दिवसिय शिबीर रद्द कीया गया है. साधकोंके होनेवाली असुविधा के लिए क्षमा चाहते है. व्यवस्थापक:  धम्मअनाकुल विपश्यना साधना केन्द्र तेल्हारा,  खापरखेडफाटा,  तेल्हारा. जि. अकोला सबका मंगल हो.